फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

सोमवार, अगस्त 29, 2011

हँसके मेरे क़रीब आओ तो

फिर भले रस्म ही निभाओ तो
हँसके मेरे क़रीब आओ तो

इक पड़ी चीज़ जो मिली तुमको
मेरा गुम दिल न हो दिखाओ तो!

आईना आपकी करे तारीफ़
यार अपना नक़ाब उठाओ तो

तुमको मानूँ मैं आगजन असली
आग दिल में अगर लगाओ तो!

दिल है नाशाद ये भी कम है क्या
जो कहे हो के क़स्म खाओ तो

यूँ भी क्या रूठना है ग़ाफ़िल से
एक अर्सा हुआ सताओ तो

-‘ग़ाफ़िल’

23 टिप्‍पणियां:

  1. जामे- उल्फ़त का तक़ाजा किसको,
    जामे- नफ़रत सही, पिलावो तो!
    bahut badhiyaa

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मर - मिटने को तैयार है गाफिल |
    मुट्ठियाँ भींच के दबाया जो दिल |

    हड्डियाँ भी कसमसाने लगीं मेरी ---
    जान ले लो, मारते क्यूँ तिल-तिल |

    हमको क्या ?? मरो ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. यूँ भी मुँह फेरना क्या 'ग़ाफ़िल' से
    एक अर्सा हुआ, सतावो तो!

    wah!
    kamaal kar diya...

    आइये मेरे नए पोस्ट पर....
    www.kumarkashish.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. इक पड़ी चीज़ जो मिली है तुझे,
    मेरा ग़ुम दिल न हो, दिखावो तो!
    धक्क से दिल में लगा। बहुत ख़ूब!

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह ...बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ...।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर, दो लाइनें याद आ रही हैं।

    जब प्यार नहीं है,तो भुला क्यों नहीं देते
    खत किसलिए रखे हो, जला क्यों नहीं देते।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आग पानी से बुझाने वाले,
    आग पानी में भी लगावो तो!

    वाह वाह सर,
    शानदार ग़ज़ल... सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  9. इक पड़ी चीज़ जो मिली है तुझे,
    मेरा ग़ुम दिल न हो, दिखावो तो!

    क्या बात है, बहुत खूब सर जी|

    उत्तर देंहटाएं
  10. यूँ भी मुँह फेरना क्या 'ग़ाफ़िल' से
    एक अर्सा हुआ, सतावो तो!

    फिर लिख लेना अशआर नये फुरसत में
    अच्छी गज़ल लिखना हमें सिखावो तो.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. जैसे ही आसमान पे देखा हिलाले-ईद.
    दुनिया ख़ुशी से झूम उठी है,मना ले ईद.
    ईद मुबारक

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन को गहरे तक छू गई यह ग़ज़ल....

    उत्तर देंहटाएं
  13. फिर से इक रस्म ही, निभावो तो!
    हँस के मेरे करीब आवो तो!सुन्दर ,काबिले दाद अशआर हैं आपके ,
    ईद और गणेश चतुर्थी मुबारक !
    बुधवार, ३१ अगस्त २०११
    जब पड़ी फटकार ,करने लगे अन्ना अन्ना पुकार ....
    ईद और गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. 'ग़ाफ़िल' साहब,
    पहले तो हमारी जलन स्वीकार कीजिये, आपकी ऐंठन, पुस्तकालय की नौकरी और गज़ल लिखने की क्षमता पर(ये सब हमारे अधूरे सपने हैं) और फ़िर तारीफ़ स्वीकार कीजिये इस खूबसूरत गज़ल के लिये।
    और हाँ, आपसे प्रोत्साहन मिला, उसके लिये आभार भी:)

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत अच्छी गजल है गाफिल जी |नव वर्ष पर्शुभ्कामानाएं स्वीकार करें |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं