फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Monday, October 19, 2015

मुखिया बोले झुनिया भै हलकान कहाँ

झूठै शोर मचायौ है शैतान कहाँ
मुखिया बोले झुनिया भै हलकान कहाँ

अब हमरी रक्षा करिहौ ऊपर वाले
कहाँ सबन कै ताना हमरी जान कहाँ

जेल काटि कै झबरा तौ आवा लेकिन
केहू बतावै फूँके रहा मकान कहाँ

भागा रहा निरहुआ तबसे नै लउटा
तुँही कहौ फिर फूँकिस ऊ खरिहान कहाँ

गाँव के सगरौ मनइन कै यक्कै रोना
निबरू बनिया के जइसन ईमान कहाँ

बूढ़ा बरगद अक़्सर पूछै ओ ग़ाफ़िल
झुरई काका वाला हिन्दुस्तान कहाँ

-‘ग़ाफ़िल’

1 comment:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (20-10-2015) को "हमारा " प्यार " वापस दो" (चर्चा अंक-20345) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete