फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शनिवार, अगस्त 29, 2015

सारे मेरे तन के छाले हैं साहिब

जो भी दिखते काले काले हैं साहिब
सारे मेरे तन के छाले हैं साहिब

किसको है मालूम कि हम इन हाथों से
चावल भूसी साथ उबाले हैं साहिब

रात गयी सो बात गयी की तर्ज़ पे हम
सह सह करके सदियां टाले हैं साहिब

तीरे नज़र चलाकर फिर मुस्का देना
आपके ये अंदाज़ निराले हैं साहिब

आप लड़ाओ पेंच न हमको पता चले
क्या हम इतने भोले भाले हैं साहिब

ग़ाफ़िल को चलना ही केवल सिखला दो
उड़ने को यूँ भी परवाले हैं साहिब

-’ग़ाफ़िल’

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (30-08-2015) को "ये राखी के धागे" (चर्चा अंक-2083) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    भाई-बहन के पवित्र प्रेम के प्रतीक
    रक्षाबन्धन के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. रक्षाबंधन के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाओं के साथ आपको बताते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस पोस्ट को, २९ अगस्त, २०१५ की बुलेटिन - "रक्षाबंधन की शुभकामनायें" में स्थान दिया गया है। कृपया बुलेटिन पर पधार कर अपनी टिप्पणी प्रदान करें। सादर....आभार और धन्यवाद। जय हो - मंगलमय हो - हर हर महादेव।

    उत्तर देंहटाएं