फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्रवार, सितंबर 18, 2015

पर कभी तो मुस्कुराया कीजिए

ठीक है, गुस्सा जताया कीजिए
पर कभी तो मुस्कुराया कीजिए

चाँद कब निकलेगा है मालूम जब
वक़्त पर आँखें बिछाया कीजिए

हैं बहुत मगरूर ये पर्दानशीं
अब न इनसे लौ लगाया कीजिए

वस्ल की यह शब गुज़रती जा रही
रफ़्ता रफ़्ता दिल दुखाया कीजिए

अब नहीं है ख़ुद पे मेरा इख़्तियार
अब न मुझको आज़माया कीजिए

खिल उठेगी शर्तिया मेरी ग़ज़ल
आप इसको गुनगुनाया कीजिए

-‘ग़ाफ़िल’

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब नहीं है ख़ुद पे मेरा इख़्तियार
    अब न मुझको आज़माया कीजिए
    ...बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (20-09-2015) को "प्रबिसि नगर की जय सब काजा..." (चर्चा अंक-2104) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार....

    उत्तर देंहटाएं